Wednesday, 30 October 2019

कविता

मैं बाहर निकलता हूँ
और उठा लेता हूँ 
किसी की भावना से 
खेलता हुआ विषय 
जिस पर कविता बननी होती है 
मैं अपराधी हूँ कविता तेरा 
जो इस विषय पर तुझे लिख रहा हूँ 

वो सहसा ही फूट पड़ी मेरे सामने 
पति के जाने का दुःख तो भूल चुकी
वो समझ चुकी है कि जीना है  
लेकिन हर रोज की घुटन व धीमी मौत  
उसके लिए भारी पड़ रहा है
निढाल होने को मजबूर सी  
उसके गालों की फटन; मावठ के उपरांत 
बरसाती दरिया की तलहटी से मिलती है।  
मुस्कान लेकिन मरी नहीं है चेहरे की 
यही मुस्कान ज़माने को शूल लगती है 
एक विधवा हंस नहीं सकती 
वो पकवान बना नहीं सकती 
मैले-कुचैले कपड़े पहने रहो तो सुहावनी लगती है 
चुपचाप सहन करो तो अच्छी लगती है 
बतिया ले किसी से तो गुलछर्रे उड़ाती है 
इस ज़माने ने अनाथा को 
छुई-मुई का बूटा बना दिया है 
छू ले कोई तो मुरझाना जरूरी कर दिया है। 
क्या नहीं चाहिए एक विधवा को...
कि  उसकी माहवारी आने से रह गयी है ?
कि उसकी छातियों का भार कम हो गया है ?
कि उसके सिर के बाल कट गये हैं ?
कि वो चलने से रही और 
पैरों में कुछ भी पहनने की जरूरत ना रही?
कि गिद्धों की नज़र में बदन बदन ना रहा?
सब की सब जरूरतें ज्यों की त्यों हैं 
फिर वो खुद बाहर निकल क्यों नहीं सकती 
निजी जरूरतों का सामान उसे कौन लाकर दे 
एक पुरुष से मंगवाए तो बेहया हो जाती है 
स्त्री से कहे तो बेईज्जत पुकारी जाती है। 
शक की नजरों से बचाना खुद  को 
क्या सातवाँ अधिकार नहीं बन सकता?  
ज़माने पर वो बोझ नहीं रहना चाहती 
मगर ज़माने को वो बोझरूपी अच्छी लगती है
इसी जमाने में मैं भी हूँ 
जो उसकी चीखों को सुन पाया- और कर क्या रहा हूँ 
बस तुझे लिख रहा हूँ  
लानत है मुझ पर और ढेरों बार है
मुझे पता है तू छप जाएगी 
किसी किताब की आखिरी पन्ने पर 
एक उम्मीद है कि 
कोई समाज का नुमाइंदा इसे पढ़ेगा- 
तो मैं कविता लिख रहा हूँ
दोष रहित स्त्री को कोई आजाद करवाएगा- 
तो मैं कविता लिख रहा हूँ 
किसी के क्रूर रीती रिवाजों पर चोट देगी- 
तो मैं कविता लिख रहा हूँ 
हाशिये में बंद जिंदगी 
कोरे कागज पर उतरेगी तो मैं तुझे लिख रहा हूँ- 
मैं मानता हूँ खूबसूरती को बेदाग ही रखना 
एक निजी जुर्म है मेरी दोस्त 
फिर भी माफ़ी चाहता हूँ।
तुझे जनने के लिए 
मैंने किसी की भावनाओं को 
तेरा विषय बनाया
तू मुझे माफ़ कर देना 
मगर पड़ी रहना उस आखिरी पन्ने पर 
नींव समझी जाएगी या इमारत कोई 
मुझे नहीं पता बस कि मैं तुझे लिख रहा हूँ।

                                                  - Rohit

taken from google image 



   
   






31 comments:

  1. ति के मरने के बाद स्त्री को विरासत में ये समाज जिल्लत,घुटन, अत्याचार भरी ही जिंदगी देता है . ..
    कड़वी मगर सचि बात


    विधवा से अच्छा औरत का सुहागन मरना ही उचित है

    बहुत सुन्दर बखान किया है विधवा के मनोभावों का 🙏

    ReplyDelete
  2. बहुत ही चिंतनीय विषय को कविता में समेटा है आपने, बधाई

    ReplyDelete
  3. ज्यादा बड़ी होने के कारण पूरी नही पढ़ी लेकिन लगता है बहुत दर्द भरी कविता है😊😊😊

    ReplyDelete
  4. उद्वेलित और आक्रोश किये ... बहुत गहरी पर सच बात बेबाकी राखी है इस कविता में ...
    विश्व जीवन और कुछ हद तक नारी का जीवन भी इन्ही सब शब्दों के दायरे में कैद हो के रह जाता है ... समाज पे ठहाके लगता ...

    ReplyDelete

  5. मुस्कान लेकिन मरी नहीं है चेहरे की
    यही मुस्कान जमाने को शूल लगती है
    एक विधवा हंस नहीं सकती
    वो पकवान बना नहीं सकती
    मेले कुचले कपड़े पहने रहो तो सुहावनी लगती है -
    भावप्रधान संवेदनशील रचना है मित्र।

    कविता वही है, जो दूसरों के दर्द को समझ सके.. जब पत्रकारिता बोझ लगती है, जब ठगा सा महसूस करता हूँ, तो मैं भी कभी- कभी यह गीत गुनगुना लेता हूँ-

    अपने लिये जिये तो क्या जिये
    तू जी, ऐ दिल, ज़माने के लिये

    ReplyDelete
  6. जी, वैधव्य का भार जो स्त्री ढो रही होती है, असल में वो स्त्री ही इन सब का असली दर्द जानती है। जब सारे अधिकार उससे छीन लिए जाते हैं और ओड़ा दिया जाता है सफेद श्याह रंग उसके बदन पर, वाकई में बहुत तकलीफदेह होती है। उनकी हालात देखकर पर आपने अपनी कविता के जरिए उनके दर्द को दुख को यहां लिखा यह बहुत बड़ी बात है। काफी हद तक बदलाव आ रहे हैं इस क्षेत्र में लेकिन फिर भी गांव देहातों में विधवा महिलाओं की स्थिति बहुत चिंताजनक है... स्त्री दशा पर लिखी गई आपकी बहुत ही भाव प्रधान और सार्थक रचना

    ReplyDelete
  7. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में शुक्रवार 01 नवम्बर 2019 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  8. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (01-11-2019) को "यूं ही झुकते नहीं आसमान" (चर्चा अंक- 3506) " पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित हैं….

    -अनीता लागुरी 'अनु'
    ---

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आपका
      सौभाग्य मेरा। 🙏

      Delete
  9. तू मुझे माफ़ कर देना
    मगर पड़ी रहना उस आखिरी पन्ने पर
    नींव समझी जाएगी या इमारत कोई
    मुझे नहीं पता बस कि मैं तुझे लिख रहा हूँ।
    किसी की व्यथा को यूं ढाल देना शब्दों में जैसे झेला-भोगा दर्द अभी अभी पाठक ने करीब से देख कर महसूस किया है .. आपकी संवेदनशीलता दर्शाता है । समाज के उपेक्षित कोने पर मर्मस्पर्शी सृजन रोहित जी ।

    ReplyDelete
  10. कड़वा सत्य समेटा है कविता में, रूढ़ियों से बाहर आना हर कोई चाहता है मगर कोई हिम्मत नहीं करता रूढ़ि तोड़ने की

    ReplyDelete
  11. यही सत्य कविता है
    जो दूसरों के लिये प्रकट हो
    ये अवश्य समझी जायेगी
    नहीं समझ में आएगी तो अनर्थ होगा

    ये कलम बेजुबानों को स्वाबलंबन देगी
    और मूर्खों को उनकी मूर्खता दिखाने वाला आईना!
    सादर

    ReplyDelete
  12. हमारे समाज की बहुत ही कडवी सच्चाई को शब्दों में सँजो दिया है अपने ....। स्त्री विधवा है तो उसमें उसका क्या दोष ? समझ नहीं पाई अभी तक ।

    ReplyDelete
  13. बेहद भावपूर्ण कविता।

    ReplyDelete
  14. मध्यवर्गीय परिवार की युवा विधवा की विडंंबनापूर्ण जीवन का मर्मस्पर्शी चित्रण है- काश उसे भी नारीत्व के स्वाभाविक अधिकारमिलें !

    ReplyDelete
  15. विधवा स्त्री के दर्द को बाखूबी रचा हैं आपने ,ये सच हैं कि आज भी विधवाओं के साथ बहुत बुरा व्यवहार होता हैं,खास तौर पर हम औरते ही उस पर ज्यादा अत्याचार करती हैं ,उससे एक अछूत सा महसूस कराते हैं ,पर बदलाव हो रहा भले ही पढ़ेलिखे समाज में ही सही पर बदलाव की शुरुआत हो चुकी हैं। अभी हमारे ही घर में नियति ने बहुत बड़ा कुठाराघात किया हैं मात्र 48 साल की उम्र में ही मेरे बहनोई गुजर गए हैं ,पर हमने ना टूटने दिया ना झुकने दिया ,उसे स्वलम्बी बनाया हैं ,वो अपनी जीवन के नई पारी की शुरुआत सहजता से कर पा रही हैं। स्त्री दर्द को वया करती मार्मिक रचना ,सादर नमन

    ReplyDelete
  16. समाज को आईना दिखाती रचना ।
    हालांकि अब हर जगह ऐसी स्थिति नहीं रही बहुत भारी बदलाव आए हैं पिछले दस सालों में शहरी और पढ़े लिखे लोगों की सोच बदली है, आज पुनर्विवाह, स्वावलंबन उच्च शिक्षा जैसी बहुत सी राहें खुली है और बहुत से परिवारों में तो उनके रहने के किसी भी ढ़ंग से कोई अनुमान नहीं लगा सकता उनके वैधव्य का ।
    फिर भी कुछ क्षेत्रों में अभी भी स्थिति सोच जनक है ।
    गहन प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  17. वैधव्य के दर्द को महसूस कराती अति मार्मिक रचना ! समाज बदल रहा है पर बहुत धीरे-धीरे, आज जरूरत है ऐसे साहित्य की जो इन कुरीतियों पर कुठाराघात करे

    ReplyDelete
  18. Replies
    1. बहुत सुन्दर रोहितास जी. समाज की अन्यायी और अमानुषिक सोच पर करार तमाचा मारा है आपने. एक विधवा को खुद में साहस जुटाना होगा, उसे खुद में आत्मविश्वास जगाना होगा, उसे खुद को अपने पैरों पर खड़ा होगा. तभी ये बेबसी का, इस बेचारगी का, अभागी कहलाने का बिल्ला, वह अपने गले से उतार पाएगी.

      Delete
  19. वाह ...कविता के विषय पर ही कविता और वो भी इतने संवेदनशील भाव लिए | सुंदर लिखा |

    ReplyDelete
  20. बहुत बढ़िया तरीके से आपने अपने
    उद्वेलित मन को अभिव्यक्ति दी है. बहुत खूब.

    ReplyDelete
  21. नारी जीवन का कड़वा सच व्यक्त करती बहुत ही सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  22. मैं बाहर निकलता हूँ
    और उठा लेता हूँ
    किसी की भावना से
    खेलता हुआ विषय
    जिस पर कविता बननी होती है

    pehale to ye lines likhne ke liye dheron bdhaayi swikaar kren.........mere liye ye lines hi ik puri sarthak kavita hain ....bdhaayi


    apne ik aise vishay ko likhaa jise har naari kisi naa kisi roop me zarur jeeti he

    hmmmm


    rchnaa bahut achhi hui he

    ik ajeeb si udaasi de jaane wali rchnaa magr bahut steek bhi

    ReplyDelete
  23. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  24. वाह।
    झकझोर देने वाली रचना हैं।एक दम अलग तरीके से इस सदियो पुराने कशमकश पर कटाक्ष किया हैं अपने।कई बार पढ़कर देख और समझने की कोशिश की।एक तरह से शब्दों और विषयो की शून्यता से कविता गुजर रही हैं आजकल मगर एहसासों को नई जुबान और नई परिभाषा देना कोई आपसे सीखे।मेरा सौभाग्य की इतने दिनों से कुछ लिख पड़ नही पाया और जब कुछ पढ़ा तो इतना बेहतर।बहुत बहुत अच्छा लगा।स्वमं भी कुछ लिखने का मन हो रहा हैं।

    हाशिये में बंद जिंदगी
    कोरे कागज पर उतरेगी तो मैं तुझे लिख रहा हूँ-

    मेले कुचले कपड़े पहने रहो तो सुहावनी लगती है
    चुप चाप सहन करो तो अच्छी लगती है

    बेहतरीन

    ReplyDelete
  25. प्रिय रोहिताश , आपकी ये रचना समाज की कुत्सित , संकुचित सोच पर गहरा , करारा प्रहार है | एक कवि की रचना समाज का आईना होनी चाहिए , तभी वह शब्दों से क्रांति रचने की उम्मीद रख सकता है | सदियों से विधवाओं ने , पति के अवसान के बाद मौत सरीखी जिन्दगी जी है | पति की मौत में उनका क्या दोष था , ये आजतक कोई ना समझा सका और ना ही एक नारी खुद समझ सकी |मैंने अपने गाँव में कई बूढी दादियों को देखा , जो बाल विधावाएं थी | सूती सफ़ेद साड़ी में लिपटा उनका जीवन कब बचपन से बुढ़ापे में बदल गया , वे जान ही ना पायीं | कईयों ने तो उस इंसान की शक्ल को आँख भर देखा ही नहीं था , जिसके नाम पर वे वैधव्य का भार ढो रही थीं | जीवन को रंगहीन होने का दुःख एक तरफ तो टेढ़ी नजर से तकते जमाने की संकुचित सोच का दुःख एक तरफ | उसके व्यक्तित्व पर उछलते लांछनों के प्रहार उसे कितना छलनी करते होंगे किसी को पता नहीं | असल में समाज ने नारी के मूक और बंध्या रूप को आर्दश माना है सदियों से |और विधवा नारी के पास कोई संबल होता भी कहाँ है ?

    पर आज कोई ही अभागी लड़की ऐसी होगी जो इस प्रकार की दुर्दशा से गुजरती हो | शिक्षा जागरूकता फैला रही है | बेटियां शिक्षित और आत्म निर्भर होंगी तो वे स्वयं को उपेक्षा और तिरस्कार से बचा सकेंगी |सार्थक रचना जो सरल शब्दों में गहरी बात कहती है | सस्नेह शुभकामनायें |

    ReplyDelete
  26. एक स्त्री जीवन के अनेक पड़ावों से गुजरती है जीवनभर बहुत कुछ सहती है। पर विधवा होना जीवन का वो अध्याय होता है जिसे कोई भी स्त्री पढ़ना नहीं चाहती है एक पति के न रहने से जीवन का हर पल अनचाहे रुप से बेरंग हो जाता है एक ऐसे पाप का दंड आजीवन भोगने को मजबूर होती है जो उसने कभी सोचा तक न होता है।
    बेहद मार्मिक अभिव्यक्ति लिखी है आपने भावपूर्ण प्रश्न मन को मथते है कि हम सिर्फ़ उनका दर्द लिख सकते है पन्ने पर उनके लिए क्या कर सकते है पर रोहित जी ऐसी मर्मांतक विवशताएँ पढ़कर उनकी पीड़ा महसूस कर उनके साथ समानुभूति का व्यवहार तो कर ही सकेगें न कुछ संवेदनशील पाठक।

    ReplyDelete