Thursday, 19 September 2019

अंदाजे-बयाँ कोई और

फ्रॉम गूगल इमेज 
कब तलक  हक़  जमाओगे, है  कोई और
दम निकलेगा तभी मानोगे था कोई और

जबरन  ब्याही  गयी  संग  कोई   और
पखेरूओं  की  फिक्र  करे   कोई   और

सुलगती  थी  वो   अब   आराम  से  है
जल पड़ी  जो  अब  बुझेगी  कोई  और

मज़हबी तीर पार बोला जंगे-इश्क में
खुदा एक है ये याँ समझे है कोई और

थी बात कि तेरा मेरा किसने बांटा है
फिर कैसे  कहें  रक़ीब  को कोई और

बावजूद ताल्लुकात जिंदा हैं  हैरत  है मुझे
होती मोहल्ले में जीता दम भर कोई और

निकलते आफ़ताब  को देखा  होगा  ढलते  दिन  ने
हम थकन में हैं उस क्षितिज की बात करे कोई और

अव्वल तो  हम बेहूदा जान  पड़ते हैं, नामुमकिन  है
पर समझने की क्षमता से परे पाओगे हमें कोई और

हम अपनी टीस की ख़ातिर उनसे पूछे जाएं
वो बेकरारी में हमसे कहे जाए - है कोई और

हमने शेरो-शायरी की और जी भर के की
क्या बताना अब भी है भूख थी कोई और

कहते हैं था ग़ालिब का अंदाजे-बयां और
फ़रमाते हम भी हैं अंदाजे बयाँ कोई और.

-रोहित 

34 comments:

  1. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में शुक्रवार 20 सितंबर 2019 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. वाह ! बेहद उम्दा अश्यार

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. निकलते आफ़ताब को देखा होगा ढलते दिन ने
    हम थकन में हैं उस क्षितिज की बात करे कोई और
    बहुत खूब.. जब भी लिखते हैं लाजवाब होता है । बहुत ही उम्दा सृजन ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. लिखने को तो यही एक शेर लिखा गया है इस ग़ज़ल में।
      बाकी तो आपका बड़प्पन है जी।
      आभार

      Delete
  5. गालिब से कम नहीं है अंदाजे- बयां ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. अंदाजे-बयाँ है भी तो
      किसी से क्योंकर कम हो।

      आभार

      Delete
  6. गहरे अर्थ समेटे सामायिक पृष्ठ भूमि पर शानदार अश्आर ।
    हर शेर बेमिसाल।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हर समय को इंगित करे वही रचना शानदार बनती है।

      आभार।

      Delete
  7. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (21-09-2019) को " इक मुठ्ठी उजाला "(चर्चा अंक- 3465) पर भी होगी।


    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    ….
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
  8. जबरन ब्याही गयी संग कोई और
    पखेरूओं की फिक्र करे कोई और
    सुलगती थी वो अब आराम से है
    जल पड़ी जो अब बुझेगी कोई और !!!!!!!!

    बहुत बढ़िया रोहितास जी | आपके अपने खूबसूरत अंदाज में एक उम्दा गज़ल कही आपने | ग़ालिब का अंदाजे बयाँ और था , पर उनकी राह का अनुशरण करते हुए हर मौलिक रचनाकार अपनी शायरी का ग़ालिब ही है | आपका अंदाज भी अपनी जगह जुदा रहता है | हार्दिक शुभकामनायें आपको अनवरत लेखन के लिए | सस्नेह --

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया
      आपकी प्रतिक्रिया से मेरी रचना खरी बनती है।
      सादर

      Delete
  9. वाह,आपकी रचनात्मकता के सन्दूक से निकली एक और बेहतरीन रचना।सच बोलू तो कई बार पढ़ा और बार बार पढ़ा तब इसके मर्म तक पहुँचने की कोशिश कर पाया,खासकर पहली पक्ति ।बहुत नए अंदाज मे लिखी गयी रचना हैं।और कैसे हर शेर में अपने अलहदा मसला उठाया गड़ा हैं वो सीखने लायक हैं।ठीक कहते हो आप अंदाजे बया और हैं।दुनिया तो ग़ालिब को भी बहुत देर में वो जगह दे पायी थी जबके उन्होंने मुफ़लिसी में ज़िन्दगी गुज़ार दी,वक़्त के तकाज़े पे इन लब्जो के मुख़्तसर मायने निकलेगे।

    निकलते आफ़ताब को देखा होगा ढलते दिन ने
    हम थकन में हैं उस क्षितिज की बात करे कोई और
    हमने शेरो-शायरी की और जी भर के की
    क्या बताना अब भी है भूख थी कोई और

    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप जैसे दोस्तों की कमी रहती है हमें
      करीब रहा करो।
      आभार।

      Delete
  10. बहुत खूबसूरत ग़ज़ल ! हर शेर शानदार हर ख़याल दमदार ! आपका अंदाज़े बयाँ भी बहुत बढ़िया ! हार्दिक शुभकामनाएं रोहितास जी !

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रणाम
      आपसे सीखे है ये तेवर भी हमने
      एकलव्य की तरह।


      आभार।

      Delete
  11. वाह
    बहुत सुंदर शेर
    बधाई

    ReplyDelete
  12. सुलगती थी वो अब आराम से है
    जल पड़ी जो अब बुझेगी कोई और
    कमाल का अंदाजे-बयाँ...
    निकलते आफ़ताब को देखा होगा ढलते दिन ने
    हम थकन में हैं उस क्षितिज की बात करे कोई और
    वाह!!!
    लाजवाब गजल
    एक से बढ़कर एक शेर....।

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्यार बरसाते रहिएगा

      Delete
  13. बहुत सुंदर प्रस्तूति, रोहितास भाई।

    ReplyDelete
  14. वाह क्या कहने बेहद शानदार ग़ज़ल लिखी है आपने रोहित जी।
    हर शेर लाज़़वाब है अपने आप में मुकम्मल।

    पर क्षमा चाहेंगे रचना में शब्दों की बुनावट बेहतरीन है पर एहसास में वो बात महसूस नहीं हुई।

    ReplyDelete
  15. ये कमी तो मुझे भी खलती है आजकल।
    शुक्रिया

    ReplyDelete

  16. कहते हैं था ग़ालिब का अंदाजे-बयां और
    फ़रमाते हम भी हैं अंदाजे बयाँ कोई और.
    बिल्कुल सही, वाह

    ReplyDelete
  17. बहुत खूब ...
    इस अन्दाजें बयान का क्या कहना ... बात को बहुत अलग अंदाज़ से रखा है हर शेर में ... दूसरी पंक्ति ने पहली के भाव बाखूबी खिला दिए हैं ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद नासवा जी।
      आपकी प्रतिक्रिया मिलने का मुझे गुमाँ रहता है।

      Delete
  18. बहुत उम्दा अशआर हैं आपके रोहितास घोरेला जी. पूरी ग़ज़ल अच्छी है लेकिन अभी ग़ालिब का सा अंदाज़े बयाँ लाने के लिए या उनके अंदाज़ की बराबरी का अंदाज़ लाने में आपको थोड़ा वक़्त लगेगा.

    ReplyDelete
    Replies
    1. बराबरी की चाहत है भी नहीं साहब।

      आभार

      Delete
  19. अन्दाज़े वयाँ क्या ख़ूब है.

    ReplyDelete
  20. Rohitas ji


    बावजूद ताल्लुकात जिंदा हैं हैरत है मुझे


    hmmm..ye ik line ne baandh liya mujhe....bahut gehri baat keh dii aapne....

    aabhaar aapka...apne kalam se milaane ke liye....ab aana hota rahega...

    .mere blog tak aane aur lekhni ko sraahne ke liye tah e dil se shukriyaa


    yuhin likhte rahiye..bdhaayi

    ReplyDelete
  21. रोहितास भाई उम्दा गज़ल आपके खूबसूरत अंदाज में हर ख़याल दमदार !

    ReplyDelete