Friday, 31 January 2020

लोकतंत्र

हम जो हैं
वर्तमान राजतंत्र के नितारे गए लोग
जब हमने राजतंत्र से ऊब कर
विद्रोह शुरू किया
अधिकारों की मांग रखी
समानता की बात हुई-
तब अविरल विरोद्ध को रोकना
इन राजतंत्रों के लिए जरूरी हो गया
विचारी गयी बात निकाली गयी
बदला या भड़ास निकालने का अधिकार दे दिया जाये
अब हम हर पांच साल में भड़ास निकाल कर ख़ुश हैं
 और फिर साढ़े चार साल तक शांत रहते हैं
और फिर चाचा को हटाकर भतीजा लाते है
और फिर ऐसे ही कभी चाचा कभी भतीजा
अब हमारी क्षणिक ख़ुशी का राज
यही निर्विरोध राजतंत्र-
जिसमें ज्यादा ख़ुशी और कम गुस्से से काम चलता है
न्याय, अधिकार, और समानता की अमर मांग
अब जहन में आने से रह गई है
मात्र सत्ता पलटने की बात
इन सब का उपाय लगने लगी है,
जहां बात बात पर फ़रमानी किताब
चुपी फैलाकर आंख मूंद लेती है
जब कभी जनता और राजा की  मिलावट हो
इसी किताब को छलनी बनाकर
मिलावट नितार दी जाती है
हम साधारण से लोगों को
राजतंत्र या बहरूपिया राजतंत्र से फर्क नहीं पड़ता।
हम गुस्सा निकाल कर खुश हो लेंगे
हमारी ही स्वीकृति से
जो लोग हुकूमत के मद्द में
अन्नदाता या सर्वज्ञ बन गए
उनकी असलियत इतनी ही है कि
इनको गरीबों की गलियां नहीं मिलती;
ठीक तीन लोक के ज्ञाता की तरह-
जिसको अपने ही हाथों से काटा सर नहीं मिला
और परिवारवाद के लिए
मासूम माँ के बच्चे का सर कलम कर दिया
बस ध्यान इतना सा रखा जाता है कि
मौका-ए-वारदात पर माँ को पता न चले
बाद में माँ पर क्या बीतेगी ...
कौन जानने की जरूरत करता है।
क्योंकि अन्नदाता खुद को जनता स्वरूपी
व बेटे को जनता का ही एक अंश बताता है
अत: हमारी तो ख़ुशी का ठिकाना शेष नहीं
हमारे जहन में जो तंत्र है, हमने
उसी का नाम लोकतंत्र रख रखा है।
और लोहे पर लकीर जैसी कोई किताब
की आवश्यकता नहीं रही
हम पहले से ही नितारे गए लोग हैं।

- रोहित
from Google Image 



23 comments:

  1. तंत्र है बहुत सुन्दर।

    ReplyDelete
  2. सार्थक रचना .....लोकतंत्र के नाम पर अब तो राजतन्त्र ही चलन में है....राजनीति एक अलग लेवल पर है यहाँ लोगों को पारदर्शिता का चस्मा पहनाया जा रहा है ......सब मिल बांट कर खा रहे हैं बस आम जनता को नहीं खाने देना

    ReplyDelete
  3. लोकतंत्र है कहाँ आज भी,
    सरकार चाहे जिसकी हो, परंतु सत्य यह है कि व्यवस्था नौकरशाहों के हाथ में रही हैं और है..
    और ये अफसर
    सदैव राजतंत्र के अंग रहे हैं..।
    जब-तक हमें इन्हें हाकिम -हुजूर की जगह जनता का नौकर नहीं बोलना नहीं आएगा..।
    जनतंत्र की जय बोलेंगे।
    हमारे नेता तो नौकरशाही व्यवस्था के मुखौटा मात्र हैं।
    सार्थक और विचारणीय पोस्ट।

    ReplyDelete
  4. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा रविवार(0२-०२-२०२०) को "बसंत के दरख्त "(चर्चा अंक - ३५९९) पर भी होगी।

    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    ….
    -अनीता सैनी

    ReplyDelete
  5. बहुत शानदार प्रस्तुति।
    सटीक और सार्थक।

    ReplyDelete
  6. सच कहा आपने । यह लोकतंत्र नही थोड़ा सा बदला हुआ राजतंत्र ही है।
    जनता बेवश थी और बेवश ही है।
    करारा प्रहार किया है आपने।
    लेकिन मुझे नहीं लगता कि कुछ भी बदलने वाला है। बस, मन की भड़ास निकालते रहिए।

    ReplyDelete
  7. हम जो है इस तंत्र के बँटे हुये लोग
    हमारी प्रबुद्धता को कट्टरवाद ने लील लिया है।
    विचारधारा खेमों में बाँटकर
    हम निष्पक्ष कैसे रह सकते हैं?
    यह प्रश्न स्वयं से पूछने की आवश्यकता है।
    बढ़िया रचना है।
    समसामयिक।

    ReplyDelete
  8. कटु यथार्थवादी सशक्त लेखन

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर और सार्थक रचना 👌👌

    ReplyDelete
  10. हाँ...ऐसा तो है हीं...राजतंत्र और लोकतंत्र की सीमायें अब पहचानी नहीं जाती...के कौन कहाँ से शुरू होती है और कौन कहाँ पे ख़त्म I बढ़िया रचना I

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुन्दर सार्थक एवं सटीक सृजन।

    ReplyDelete
  12. हमारी ही स्वीकृति से
    जो लोग हुकूमत के मद्द में
    अन्नदाता या सर्वज्ञ बन गए
    उनकी असलियत इतनी ही है कि
    इनको गरीबों की गलियां नहीं मिलती;

    और गरीब उनके गिरेबान को जकड़ नहीं सकते

    दर्द में जीना मजबूरी है

    सामयिक सार्थक लेखन

    ReplyDelete
  13. . बिल्कुल सही कहा राजतंत्र और लोकतंत्र सब बराबर ही हो गए हैं अब तो कुछ और ही तंत्र चल रहा है जिसकी लाठी उसकी भैंस तंत्र आज चाचा बैठे हैं तो कल यकीनन उनकी जगह पर भतीजा ही बैठेगा यह पंक्तियां बहुत बड़े सच को दर्शा रही है.... वर्तमान परिस्थितियों पर कविताएं पढ़ना अच्छा लगता है बहुत ही अच्छा लिखा आपने शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  14. वाह! लोकतंत्र और राजतंत्र दोनों मिलकर लगभग वंशवाद की ओर अग्रसर होता नजर आ रहा है।चाचा या भतीजा।किसी भी तरह तो तंत्र किसी वंश को ही हासिल होता है। और तंत्र के प्रति उनका नजरिया भी वैसे ही होता है।गरीबों की ओर से उन्हें गालियाँ क्यो मिलेगी ।उनका मुँह तो छोटी-छोटी सुविधाएँ प्रदान कर बंद कर दिया जाता है।

    ReplyDelete
  15. बहुत सही और सटीक लिखा आपने 👍

    ReplyDelete
  16. सच, सार्थक सटीक लेखन

    ReplyDelete
  17. नए बिम्ब लेकर आम नागरिक के यथार्थ को खूबसूरती से शब्दांकित किया है। अब पहले से उत्पाद भी कहाँ हैं, सड़े गले वही प्रोडक्ट, बदलती हुई आकर्षक पैकिंग, न चाह कर भी खुश होने की आदत सी बन गई है।

    ReplyDelete
  18. हम पहले से ही नितारे गए लोग हैं- बहुत सही कथ्य। बधाई और आभार।

    ReplyDelete
  19. सार्थक और चिन्तन करने योग्य रचना, शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  20. प्रिय रोहित , पाश के पाठक और प्रशंसक हो और उन्हीं जैसी शैली और आक्रोश की झलक आपके लेखन में मिलती है | पाश कहते हैं सबसे खतरनाक है मुर्दे का शांति से मर जाना और हमारे सपनों का मर जाना | लोकतंत्र के नाम पर वंशवाद को पोषित करते जनता जनार्दन के रूप में हम वही कर रहे हैं | हमारी शक्तियाँ क्षीण हो चुकी हैं हम भ्रष्टाचार के अभ्यस्त हो चुके हैं | न्याय, समानता और अधिकार की अमर मांग चलती रही है और भविष्य में भी चलती रहेंगी | सत्ताएं आती हैं आती रहेंगी | | अच्छा -बुरा कैसा भी तरीका हो पक्ष को विपक्ष गिराने की कोशिश में लगा है | नैतिकता ताक पर टंगी है | समसामयिक रचना जो मौजूदा व्यवस्था की पोल खोलती नये प्रश्न उठाने में सक्षम है ये लेखनी यूँ चलती रहे | हार्दिक शुभकामनाएं | |

    ReplyDelete
  21. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक
    २३ मार्च २०२० के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
  22. आपके आक्रोश की यहां सब ने प्रशंसा तो की है ! पर उसमें ज्यादातर खानापूर्तियां हैं ! हल कहां निकला किसी बात का ! वह तो वहीं की वहीं ही रही ! कुछ तो ऐसा हो जो ठोस हो ! जिसकी आवाज बहरे कानों तक पहुंचे ! अवाम को कोई ''ग्रांटेड'' ना ले सके !

    ReplyDelete
    Replies
    1. गगन जी,
      कविता ने अपना काम कर दिया,
      इस मायने में कि खानापूर्ति करने वाले ये समझ पाएं कि जो ये लोकतंत्र है वो हकीकत में राजतंत्र का सुधारा गया रूप है।
      नियत तब बदलती है जब हम इसे दिशा देना चाहें।
      अगर इस रचना ने दो जनों का भी शीशा साफ किया है तो मेरा लिखना सफ़ल है।
      बाकी व्यक्तिगत तौर पर हम लगे हुए हैं।

      कोटि कोटि आभार।

      Delete